Home Event and Festivals Poems on Teachers in Hindi from Students on 5th September

Poems on Teachers in Hindi from Students on 5th September

[add58]

Right here we’ve the perfect assortment of 5th September Poems on Teachers in Hindi, Pleased Teachers Day Poems in Hindi Language. Instructor’s Day is a superb alternative to precise your respect to your academics and lengthen your gratitude for making you what you’re. One of the crucial widespread methods of expressing your love and gratitude in the direction of your academics is thru poems, Poems are the right means for conveying heartfelt emotions to somebody particular. Whether or not quick or lengthy, a poem written with the suitable poetic units can finest describe what’s in one’s thoughts. On this part we’ve added Finest Shikshak Diwas Kavita for Students, Quick Inspirational Teachers Day Poems In Hindi Characters, टीचर्स डे कविता, 5 सितम्बर पर शिक्षक दिवस पर कविता, Lovely Quick Teachers Day Poems for Youngsters, Adhyapak Diwas Ki Kavita, Well-known Teachers Day Poetry and lots of extra. Pleased Teachers Day  🙂

Finest 5th September Poems on Teachers in Hindi Language, Teachers Day Poetry

Happy Teachers Day Poems in Hindi

Greeting Picture of Pleased Teachers Day Poems In Hindi Language

[add60]

 

1) बच्चो के लिए टीचर्स डे पर कविता हिंदी में

टीचर होती एक परी,
सिखाती हमको चीज नई।

कभी सुनाती एक कविता,
कभी सुनाती एक कहानी।

करे कभी जो हम शैतानी,
कान पकड़े, याद आए नानी।

अच्छे काम पर मिले शाबाशी,
टीचर बनाती मुझे आत्मविश्वासी।

टीचर होती एक परी,
सिखाती हमको चीज नई।

‍- मयूरी खंडेलवाल

 

2) छोटे बच्चो के लिए कविता

मैडम मेरी कितनी अच्छी,
हम बच्चों जैसी सच्ची।।

खेल-खेल में हमें पढ़ाती,
ढेरों अच्‍छी बात बताती।।

हम बच्चों जैसी प्यारी मैडम,
सबसे अच्छी न्यारी मैडम।।

– मो.आजम अंसारी, इंदौर

 

3) जादूगर सर पर शिक्षक दिवस की कविता

सर को कैसे याद पहाड़े?
सर को कैसे याद गणित?
यह सोचती है दीपाली
यही सोचता है सुमित।।

सर को याद पूरी भूगोल
कैसे पता कि पृथ्वी गोल?
मोटी किताबें वे पढ़ जाते?
हम तो थोड़े में थक जाते।।

तभी बोला यह गोपाल
जिसके बड़े-बड़े थे बाल
सर भी कभी तो कच्चे थे
हम जैसे ही बच्चे थे।।

पढ़-लिखकर सब हुआ कमाल
यूँ ही सीखे सभी सवाल
सचमुच के जादूगर हैं
इसीलिए तो वो सर हैं।।

– प्रतीक सोलंकी

 

4) गुरु जी के लिए हिंदी में कविता

जानवर इंसान में जो भेद बताये,
वही सच्चा गुरु कहलाये।।

जीवन पथ पर जो चलना सिखाये,
वही सच्चा गुरु कहलाये।।

जो धैर्यता का पाठ पढाये,
वही सच्चा गुरु कहलाये।।

संकट में जो हसना सिखाये,
वही सच्चा गुरु कहलाये।।

पग-पग पर परछाई सा साथ निभाए,
वही सच्चा गुरु कहलाये।।

जिसे देख आदर से सर झुक जाए,
वही सच्चा गुरु कहलाये ।।

 

5) Shikshak Diwas Kavita in Hindi Fonts

हम स्कूल रोज हैं जाते,
शिक्षक हमको पाठ पढ़ाते।।

दिल बच्चों का कोरा कागज,
उस पर ज्ञान अमिट लिखवाते।।

जाति-धर्म पर लड़े न कोई,
करना सबसे प्रेम सिखाते।।

हमें सफलता कैसे पानी,
कैसे चढ़ना शिखर बताते।।

सच तो ये है स्कूलों में,
अच्छा इक इंसान बनाते।।

– संतोष कुमार सिंह

 

6) Quick Pleased Teachers Day Poems in Hindi

गुरु आपकी ये अमृत वाणी
हमेशा मुझको याद रहे।
जो अच्छा है जो बुरा है
उसकी हम पहचान करे।
मार्ग मिले चाहे जैसा भी
उसका हम सम्मान करे।
दीप जले या अँगारे हो
पाठ तुम्हारा याद रहे।
अच्छाई और बुराई का
जब भी हम चुनाव करे।
गुरु आपकी ये अमृत वाणी
हमेशा मुझको याद रहे।।

– सुजाता मिश्रा

 

7) शिक्षक है शिक्षा का सागर

शिक्षक है शिक्षा का सागर
शिक्षक बांटें ज्ञान बराबर,

शिक्षक मंदिर जैसी पूजा,
माता-पिता का नाम है दूजा

प्यासे को जैसे मिलता पानी,
शिक्षक है वो ही जिंदगानी

शिक्षक न देखे जात-पात,
शिक्षक न करता पक्ष-पात,

निर्धन हो या हो धनवान,
शिक्षक को सब एक सामान

शिक्षक माझी नाव किनारा
शिक्षक डूबते को सहारा

शिक्षक का सदा ही कहना
श्रम लगन है सच्चा गहना।।

– हरिंदर सिंह गोगना

 

8) Pleased Teachers Day Poems in Hindi

वो कौन सा है पद,
जिसे देता ये जहाँ सम्मान ।
वो कौन सा है पद ,
जो करता है देशों का निर्माण ।
वो कौन सा है पद ,
जो बनाता है इंसान को इंसान ।
वो कौन सा है पद ,
जिसे करते है सभी प्रणाम ।
वो कौन सा है पद ,
जिकसी छाया में मिलता ज्ञान ।
वो कौन सा है पद ,
जो कराये सही दिशा की पहचान ।
गुरू है इस पद का नाम ।
मेरा सभी गुरूजनो को शत-शत प्रणाम ।

 

9) अध्यापक दिवस पर शिक्षक पर कविता

बच्चों के भविष्य को,
शिक्षक सजाता है।
ज्ञान के प्रकाश को,
शिक्षक जलाता है।

सही-गलत के फर्क को,
शिक्षक बताता है।
शिष्यों को सही शिक्षा,
शिक्षक ही दे पाता है।

ऊंचे शिखर पर शिष्य को,
शिक्षक ही चढ़ाता है।
बच्चों के भविष्य में,
और निखार लाता है।

शिष्य को कभी शिक्षक,
नहीं ढाल बनाता है।
असफल होते जब कार्य में,
अफसोस जताता है।

शिक्षक ही समाज का,
उत्तम जो ज्ञाता है।

– शम्भू नाथ

 

10) शिक्षक दिवस पोएम हिंदी में

हर कदम पर कभी समझाता, कभी डांटता शिक्षक,
अपने ज्ञान के प्रकाश को, सबमें बांटता शिक्षक।।

कांच के टुकड़े उठाकर, हीरे-सा तराशता शिक्षक,
हर क्रिया, प्रतिक्रिया को देख, हर नजर से जांचता शिक्षक।।

संस्कारों के बीज बोकर, आदर्शों की फसल काटता शिक्षक,
अंधकार में दीप जलाकर, अज्ञानता की खाई पाटता शिक्षक।।

जीवन मूल्यों को सिखाता, जिंदगी संवारता शिक्षक,
शिष्य को आगे बढ़ाकर, खुद को उसपे वारता शिक्षक।।

– प्रीति सोनी

 

11) Shikshak Diwas Poem in Hindi Wordings

रोज सुबह मिलते है इनसे, क्या हमको करना है,
ये बतलाते है ।
ले के तस्वीरें इन्सानों की, सही गलत का भेद हमें,
ये बतलाते है ।
कभी ड़ांट तो कभी प्यार से, कितना कुछ हमको,
ये समझाते है ।
है भविष्य देश का जिन में, उनका सबका भविष्य,
ये बनाते है ।
है रगं कई इस जीवन में, रगों की दुनिया से पहचान,
ये करवाते है ।
खो ना जाये भीड़ में कहीं हम, हम को हम से ही,
ये मिलवाते है ।
हार हार के फिर लड़ना ही जीत है सच्ची, ऐसा एहसास,
ये करवाते है ।
कोशिश करते रहना हर पल, जीवन का अर्थ हमें,
ये बतलाते है ।
देते है नेक मज़िल भी हमें, राह भी बेहत्तर हमे,
ये दिखलाते है ।
देते है ज्ञान जीवन का, काम यही सब है इनका,
ये शिक्षक कहलाते है ।

 

12) Quick Teachers Day Poem for Youngsters

Baalak mann phulwaari sa,
shikshak rakshak sanskaar ka,
andhkaar bhari raah ka,
shikshak deep gyaan ka.

samast vishav viraat ka,
mastishk yeh utthan ka,
jeevan rath par adhyayanrat,
shikshak pipaasu gyan ka.

behati nadi ki jheel sa,
paawan man hota shikshak ka,
chhut – achhut se rehata nyara,
uchch satriya mann shikshak ka.

– Ambale Baburaao ‘Amba’

 

13) शिक्षक दिवस पर कविता

आदर्शों की मिसाल बनकर,
बाल जीवन संवारता शिक्षक।।

सदाबहार फूल-सा खिलकर,
महकता और महकाता शिक्षक।।

नित नए प्रेरक आयाम लेकर,
हर पल भव्य बनाता शिक्षक।।

संचित ज्ञान का धन हमें देकर,
खुशियां खूब मनाता शिक्षक।।

पाप व लालच से डरने की,
धर्मीय सीख सिखाता शिक्षक।।

देश के लिए मर मिटने की,
बलिदानी राह दिखाता शिक्षक।।

प्रकाशपुंज का आधार बनकर,
कर्तव्य अपना निभाता शिक्षक।।

प्रेम सरिता की बनकर धारा,
नैया पार लगाता शिक्षक।।

– तरुणा खुराना

 

Hindi Poem about Teacher DayHindi Poem about Teacher DayHindi Poem about Teacher DayHindi Poem about Teacher Day

Hindi Poem about Instructor Day

 

14) Koti Koti Pranam Hindi Kavita | Guru ji Par Coronary heart Touching Traces

जीवन में दिया जो पहला ज्ञान
उन गुरु को मेरा कोटि प्रणाम

था मैं केवल माटी का पुतला
रग रग में था केवल अंधकार भरा

उनकी शरण में आया था जब मैं
हो गया परिवर्तन मेरे जीवन में

शिक्षा का पहला पाठ पढ़ाया
अबोध को जीवन मार्ग बताया

जौहरी की आँखों से परखा
ज्ञान के हथोड़े से तराशा

आशा की जो किरण दिखाई
साहस की नई राह दिखाई

सत्य मार्ग में चलना सिखलाया
अनुशासन का पाठ पढ़ाया

कभी कड़क कभी नरम हुए
विचलित हमको न होने दिए

उर्जा का ऐसा संचार किया
सपनों को हकीकत बनने दिया

आज खड़ा हूँ मैं जिस पथ पर
सफलता के ऊँचे शिखर पर

उस गुरु की महिमा अपरम्पार
कर दिया मेरे जीवन में चमत्कार

आज भी प्रेरणा स्त्रोत मेरे हो
इस शिष्य के मार्गदर्शक हो

श्रद्धा सुमन तुमको है अर्पण
कोटि कोटि मेरा तुमको नमन

~ nandbahu

 

 

15) Instructor ke Gyan Par Hindi Poem

आपके आशीष से, तालीम से और ज्ञान से
उपदेश से, उसूल से, सार और व्याख्यान से

अप्रमाण जीवन को मिली परिधि नई, नव दिशा
श्वेत मानस पटल पर स्वरूप विद्या का धरा

डगमगाते कदम को नेक राह दी, आधार दिया
संकीर्ण, संकुचित बुद्धि को अनंत सा विस्तार दिया

पहले सेमल से कपास पश्चात कपास को सूत कर
रूई को आकृति एक और बाती सा सुन्दर नाम दिया

कभी आचार से ,सदाचार से ,कभी नियम-दुलार से
उद्दंडता को दंड देकर हमे विकसित किया,आयाम दिया.

निर्लोभ रह देते रहे सब , न कुछ अभिलाषा रही
पात्र हो जीवन मे सफल शायद यही आशा रही

आपके ऋण से उऋण किसी हाल हो सकते नहीं
कुछ शब्द मे अनुसंशा कर जज़्बात कह सकते नहीं

गुरुवर मेरे सिर पर पुनः आशीषमय कर रख दीजिये
“दीपक “जले सूरज जैसा इतना प्रकाश भर दीजिये

~ Deepak Sharma

 

16) Pleased Teachers Day Quick Poem from Pupil

आपने बनाया है मुझे इस योग्य,
की प्राप्त करूँ मैं अपना लक्ष्य,
दिया है हर समय आपने सहारा,
जब भी लगा मुझे की मैं हारा।।
पर मैं हूँ कितना मतलबी,
याद किया न मैंने आपको कभी,
आज करता हूँ दिल से आप सब का सम्मान,
आप सब को है मेरा शत शत प्रणाम।।

 

17) Pleased Teachers Day Kavita about Mahaan Guruji

विद्या देते दान गुरूजी ।
हर लेते अज्ञान गुरूजी ॥

अक्षर अक्षर हमें सिखाते ।
शब्द शब्द का अर्थ बताते ।
कभी प्यार से कभी डाँट से,
हमको देते ज्ञान गुरूजी ॥

जोड़ घटाना गुणा बताते ।
प्रश्न गणित के हल करवाते ॥
हर गलती को ठीक कराते,
पकड़ हमारे कान गुरूजी ॥

धरती का भूगोल बताते ।
इतिहासों की कथा सुनाते ॥
क्या कब क्यों कैसे होता है,
समझाते विज्ञान गुरूजी ॥

खेल खिलाते गीत गवाते ।
कभी पढ़ाते कभी लिखाते ॥
अच्छे और बुरे की हमको,
करवाते पहचान गुरूजी ॥

– शिव नारायण सिंह

 

18) Pleased Teachers Day Poetry in Hindi Phrases

मातायें देती नव जीवन,
पिता सुरक्षा करते हैं।
लेकिन सच्ची मानवता,
शिक्षक जीवन में भरते हैं।।

सत्य न्याय के पथ पर चलना,
शिक्षक हमें बताते हैं।
जीवन संघर्षों से लड़ना,
शिक्षक हमें सिखाते हैं।।

ज्ञान दीप की ज्योति जला कर,
मन आलोकित करते हैं।
विद्या का धन देकर शिक्षक,
जीवन सुख से भरते हैं।।

शिक्षक ईश्वर से बढ़ कर हैं,
यह कबीर बतलाते हैं।
क्योंकि शिक्षक ही भक्तों को,
ईश्वर तक पहुंचाते हैं।।

जीवन में कुछ पाना है तो,
शिक्षक का सम्मान करो।
शीश झूका कर श्रद्धा से तुम,
बच्चों उन्हें प्रणाम करो।।

– सुनील कुमार

 


Learn This –

  1. Pleased Teachers Day Poem in English
  2. Instructor Day Hindi Shayari

 

Feedback

feedback